RT-PCR test क्या है? यह कैसे होता है ?

Share Karo Na !
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

यदि किसी व्यक्ति में कोरोना के लक्षण दिखाई देते हैं या वह व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव है या नेगेटिव इसी का पता लगाने के लिए जिस Test  का प्रयोग किया जाता है उसी का नाम है, RT-PCR Test|  इस Test के जरिये हमें उस व्यक्ति के बारे में पता चलता है कि वह कोरोना पॉजिटिव है या नेगेटिव|  बिना इस Test के पता लगाना बहुत मुश्किल है |

RT-PCR Test क्या है ?

rt-pcr

RT-PCR Test   एक लेबोरेटरी तकनीक है | इसका पूरा नाम Reverse Transcription Polymerase Chain Reaction होता है | यह एक लेबोरेटरी टेस्ट होता है जो Covid 19 वायरस का पहचान करता है | इस टेस्ट के माध्यम से SARS-CoV- का खोज करने का इरादा होता है |

इसमें संदेह व्यक्ति के नाक से या गले से बलगम लिया जाता है | उसके बाद इसे टेस्ट करने के लिए लैब में भेज दिया जाता है | इसमें RNA (Ribo Nucleic Acid)  की जाँच की जाती है |

RT (Reverse Transcription) क्या है ?

इसमें बहुत सारी Studies procedures होती है | जिसमे DNA (Deoxy Ribonucleic Acid) को RNA (Ribo Nucleic Acid) में बदलना होता है और इस क्रिया को Transcription कहते हैं | जब RNA को DNA  में बदला जाता है तो उसे Reverse transcription कहते हैं |

PCR (Polymerase Chain Reaction) क्या है ?

PCR एक ऐसी तकनीकी है जिसके द्वारा DNA की अनगिनत कॉपिया तैयार की जाती है | इसमें केवल DNA की ही कॉपी की जाती है |

हम सभी जानते है की DNA एक अनुवांशिक पदार्थ होता है जो एक पीढ़ी से दूसरे पीढ़ी तक पहुँचती है | डीएनए सभी जनरेशन में एक सामान होता है | इसमें किसी भी तरह का बदलाव नहीं होता है |

PCR में DNA  का एक सैंपल लेकर उससे अनगिनत कॉपिया तैयार कर लेते हैं | इससे उस DNA का अध्ययन करते हैं |

Corona virus में Reverse Transcription ( RNA को DNA में बदलना) करने की क्या जरुरत है ?

हम सभी जानते हैं कि किसी भी बीमारी की सबसे सही जानकारी DNA से ही पता चलता है | लेकिन Corona virus में ऐसा नहीं है क्यों कि इसमें DNA नहीं होता है | इसका जेनेटिक पदार्थ RNA होता है | टेस्ट करने के लिए DNA चाहिए होता है , इसीलिए RNA को DNA में बदल देते हैं |

इसके बाद PCR (Polymerase Chain Reaction) के द्वारा लिया गया सैंपल चेक करने के लिए जाता है | इस तरह Covid 19 की जाँच होती है और इसे RT PCR test  कहते हैं |

RT-PCR Test (Reverse Transcription Polymerase Chain Reaction ) कैसे किया जाता है ?

सबसे पहले संक्रमित व्यक्ति के नाक या गले से बलगम का सैंपल लेते हैं | इसके बाद सैंपल में मौजूद वायरस को कोरोना वायरस में जेनेटिक पदार्थ से मिलाया जाता है | इसके बाद देखा जाता है कि जो सैंपल लिया गया है उसमे मौजूद वायरस के जेनेटिक पदार्थ कोरोना वायरस के जेनेटिक पदार्थ से मिल  रहे हैं कि नहीं |

यदि उस व्यक्ति द्वारा लिये गए सैंपल में मौजूद वायरस के जेनेटिक पदार्थ, कोरोना वायरस में मौजूद जेनेटिक पदार्थ से मिल रहा है तो उस स्थिति में वह व्यक्ति  कोरोना पॉजिटिव है | यदि नहीं मिल रहा है तो उस स्थिति में वह व्यक्ति कोरोना नेगेटिव है |

Corona vaccine क्या है?

RT-PCR Test में कितना समय लगता है ?

इस टेस्ट को पूरा करने में सामान्यतः 6 से 8 घंटे का समय लगता है | लेकिन भारत सरकार के द्वारा जो समय दिया गया है वो है 24 घंटे | इतने समय में मरीज को उसके टेस्ट का पूरी रिपोर्ट देना होता है |

RT-PCR Test को कराने में कितना पैसा लगता है ?

इस टेस्ट की कीमत अलग -अलग राज्यों में अलग -अलग है | पहले इसकी कीमत 4500 रूपये थीं | लेकिन अब इसकी कीमत कम  कर दी गयी है | लगभग 500 से 1600 रूपये तक चार्ज होता है |

RT-PCR Test किन लोगो को कराना चाहिए ?

1- उन सभी लोगो को टेस्ट कराना चाहिए जो 14 दिन के अंदर अंतर्राष्टीय जगहों से आये  हो और उनको ILI (Influenza-like illness ) के लक्षण दिखाई दे रहा हो |

2- जो लोग हेल्थ सेक्टर काम करने वाले हैं  या फ्रंट लाइन काम करने वाले हैं |

3- वे सभी मरीज जो SARI (Severe Acute Respiratory Infection ) से पीड़ित हैं |

4- जो लोग कोरोना से पीड़ित मरीजों के टच में आये हैं वे सभी लोग अपने टेस्ट जरूर करायें |

5- वे सभी  लोग अपना टेस्ट जरूर कराये जो हॉट स्पॉट या कंटामिनैंट क्षेत्र में रहते हो |

6- वे सभी मरीज जिनको ILI के लक्षण दिखाई दे रहा हो |

Note1- जब किसी मरीज को Acute Respiratory Infection के साथ 38 डिग्री सेल्सियस से अधिक बुखार और खांसी  है तो उसे  Influenza-like illness (ILI) हुआ है |

2- जब किसी मरीज को Acute Respiratory Infection के साथ 38 डिग्री सेल्सियस से अधिक बुखार, खांसी और उसे हॉस्पिटल की जरुरत है तो उस दशा में वो मरीज SARI (Severe Acute Respoiratory Infection) से ग्रसित है |

Note – यह एक Informational blog है | अधिक जानकारी के लिए अपने नजदीकी स्वस्थ केंद्र पर जाये | 

 


Share Karo Na !
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Comment