Palak (पालक) के फायदे और इसके नुकसान

Share Karo Na !
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Palak (पालक) एक बहुत ही Common सब्जी है। इसको हम सभी कभी न कभी देखें और खाएं होंगे। हमारे देश में बहुत अधिक मात्रा में इसकी पैदावार होती है। हमारे डॉक्टर भी इसको खाने के लिए बोलते हैं। इसमें बहुत अधिक मात्रा में फाइबर, मिनरल्स, विटामिन्स आदि पाए जाते हैं।

Palak
Palak

पालक को अंग्रेजी में Spinach बोलते हैं। इसका वैज्ञानिक नाम Spinacia oleracea है। आपको स्वस्थ रखने में पालक की बहुत बड़ी भूमिका होती है।

पालक का मुख्य रूप से पैदावार ठंड के मौसम में होती है। इस मौसम में खाने के विशेष लाभ मिलते हैं। अब तो हर मौसम में पैदा किया जाता है। बरसात के मौसम में मिलने वाले पालक को अच्छे से साफ करके खाना चाहिए। इस मौसम में मिलने वाले पालक में बैक्टेरिया और मिट्टी होते हैं। अतः खाने से पहले अच्छे से साफ करना चाहिए।

पालक के 100 ग्राम में पाए जाने वाले पोषक तत्व (Nutrients of Palak)-

Calories- 23 Kcal

पानी (Water)- 91%

प्रोटीन (Protein)- 2.9 ग्राम

कार्बोहाइड्रेट (Carbohydrate)- 3.6 ग्राम

सुगर (Sugar)- 0.4 ग्राम

फाइबर (Fiber)- 2.2 ग्राम

फैट (Fat)- 0.4 ग्राम

विटामिन ए (Vitamin A)- 187%

विटामिन सी (Vitamin C)- 46%

विटामिन के (Vitamin K)- 121%

फोलिक एसिड (Folic acid)- 45 ग्राम

आयरन (Iron)- 17 ग्राम

कैल्शियम (Calcium)- 7 ग्राम

सोडियम (Sodium)- 3 ग्राम

पोटेसियम (Potassium)- 13 ग्राम

पालक (Spinach) खाने के फ़ायदे (Benefits of Palak)-

पालक एक बहुत ही फायदेमंद सब्जी है। इसमें आपकी सेहत को अच्छा रखने के लिए बहुत अधिक पोषक तत्व होते हैं। इसके कुछ प्रमुख फ़ायदे निम्न है-

1- ऑक्सिडेशन प्रक्रिया को कम करना-

हमारे शरीर में मेटाबॉलिज्म की प्रक्रिया के दौरान फ्री रेडिकल्स निकलते हैं जो शरीर के लिए बहुत नुकसानदायक होते हैं। फ्री रेडिकल्स के कारण ऑक्सिडेशन की प्रक्रिया तेज हो जाती है। Oxidative stress बढ़ जाता है। जो हमे बहुत तेजी से बूढ़ा बनाता है। इसके साथ कैंसर और डायबिटीज जैसी बीमारियों को पैदा करता है।

पालक (Palak) में Antioxidant की प्रचुर मात्रा होती है जो ऑक्सिडेशन प्रक्रिया को कम कर देता है। जिससे हमें कई बीमारियों से बचने में मदद मिलती है।

2- आंखो को स्वस्थ रखने में-

पालक में Zeaxanthin और Lutien होता है। ये Carotinoids होते हैं जो पालक के रंग के लिए जिम्मदार होते हैं। ये हमारे आंखो के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं।

Zeaxanthin और Lutein ये दोनों मिलकर Macular degeneration (रेटीना को नुकसान होना) और Cataracts (मोतियाबिंद) को रोकने का काम करते हैं। इनके वजह से अंधापन आता है।

3- कैंसर को रोकने में-

पालक में MGDG (Mono Galactosyl Diacyl Glycerol) और SQDG (Sulfo Quinovosyl Diacyl Glycerol) होते हैं जो कैंसर के बढ़ने के अवसर को कम करते हैं।

Tumor के आकार को कम करता है। Prostate cancer को कम करने में मदद करता है। हरे पालक का सेवन करने से Breast Cancer का खतरा कम हो जाता है।

4- ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में (Control hypertension)-

पालक में बहुत अधिक मात्रा में Nitrates होता है जो ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने में मदद करता है और दिल की बीमारी से बचाता है।

5- वजन कम करने में मदद करना-

इसमें कैलोरी बहुत कम होती है और प्रोटीन ज्यादा होता है। जिसके कारण आपके शरीर का वजन नियंत्रित रहता या कम हो जाता है।

6- खून बढ़ाने में-

पालक में आयरन की अच्छी मात्रा पाई जाती है। यदि आप नियमित रूप से पालक का सेवन करते हैं तो आपको आयरन की कमी नहीं होती है। जिसके कारण आपके शरीर में खून की मात्रा बढ़ जाती है और एनेमिया नहीं होता है।

7- हड्डियों को मजबूत बनाने में-

हड्डियों को मजबूत बनाने में कैल्शियम का बहुत बड़ा योगदान होता है। पालक में कैल्शियम की मात्रा पाई जाती है। अतः इसके सेवन से हमारे शरीर में कैल्शियम की मात्रा बढ़ जाती है और हड्डियां मजबूत हो जाती है।

8- हार्ट अटैक को कम करना-

पालक के नियमित सेवन से हार्ट अटैक की समस्या कम हो जाती है। क्यों कि इसमें Nitrate की अच्छी मात्रा पाई जाती है जो स्ट्रोक और हार्ट अटैक से बचाती है।

9- गर्भावस्था के दौरान एनेमिया के खतरे को कम करने में-

अधिकतर देखा गया है कि गर्भावस्था के दौरान अधिकांश महिलाओं में खून की कमी हो जाती है। इसीलिए यदि आप पालक को नियमित रूप से खिलाते हैं तो गर्भावस्था के दौरान होने वाले एनेमिया के खतरा कम हो जाता है।

10- रोग प्रतरोधक क्षमता को बढ़ाने में-

पालक में विटामिन ई पाया जाता है। यह हमारे शरीर को रोगों से लडने में मदद करता है। जिसके कारण हम कम बीमार पड़ते हैं।

11- आंतो को स्वस्थ रखने में-

पालक में फाइबर और पानी की अच्छी मात्रा पाई जाती है जिसके कारण आंतो में खाना फसता नहीं है और आसानी से बाहर निकल जाता है। जिसके कारण हमें किसी भी प्रकार का अपच, एसिडिटी, पेट दर्द आदि नहीं होता है। जिससे हमारा आंत स्वस्थ रहता है।

पालक खाने के नुकसान (Side effects of Palak)-

हम सभी जानते हैं कि पालक एक पौष्टिक सब्जी है। लेकिन कुछ स्थितियों में इस्तेमाल करने से कुछ नुकसान भी हो सकता है।

1- Kidney stone (किडनी में पथरी होना)-

किडनी में पथरी एसिड और minerals salts के कारण होता है। पथरी का सबसे बड़ा कारण कैल्शियम की अधिकता होती है। इसमें कैल्शियम ऑक्सलेट होता है।

पालक में अधिक मात्रा में कैल्शियम और ऑक्सलेट होता है। यदि आप इसकी अधिक मात्रा सेवन करते हैं तो पथरी की संभावना बढ़ जाती है।

2- खून का थक्का बनना (Blood clotting)-

पालक में Vitamin K की मात्रा अधिक पाई जाती है। यह शरीर के बहुत सारे कामों में योगदान देता है। साथ में खून का थक्का बनाने में इसी विटामिन का अहम योगदान होता है।

यदि आप खून को पतला करने वाली दवा का सेवन कर रहे हैं जैसे- Warfarin, Aspirin, Clopidogrel आदि तो उस स्थिति में आप अपने डॉक्टर से जरूर सलाह ले।

3- गठिया रोग –

यदि किसी व्यक्ति को गठिया रोग की समस्या है तो उसको पालक का सेवन बहुत कम करना चाहिए। क्यों कि इसमें मौजूद Organic products के कारण यूरिक एसिड बढ़ जाता है जिसके कारण गठिया रोग और गंभीर हो जाता है।

4- दिल की बीमारी बढ़ जाना-

पालक में कैल्शियम की मात्रा अधिक होती है। यदि आपको पहले से दिल की बीमारी है और आप इसका ज्यादा सेवन करते हैं तो उस स्थिति में कैल्शियम की मात्रा बढ़ जाएगी। जिसके कारण दिल की समस्या और बढ़ जाती है।

5- पालक में विटामिन ए (बिटा-कैरोटीन) पाया जाता है। यदि आप किसी भी प्रकार का धूम्रपान करते हैं तो उस स्थिति में कैंसर के अवसर बढ़ जाती है।

6- किडनी की बीमारी बढ़ जाना-

यदि किसी को पहले से किडनी की बीमारी है तो उसे पालक का सेवन कम करना चाहिए। क्यों कि इसमें ऑक्सलेट और पोटैसियम पाया जाता है जो किडनी की बीमारी को और बढ़ा देगा।

पालक (Palak) का सेवन कैसे करें-

1- पालक को सब्जी बनाकर खा सकते हैं।

2- इसका जूस बनाकर पी सकते हैं।

3- सलाद में इसका इस्तेमाल कर के खा सकते हैं।

4- पालक की दाल बना कर खा सकते हैं।

5- इसका पालक पनीर बना कर खाया जा सकता है।

6- पालक पूरी बना कर सेवन कर सकते हैं।

7- पालक का पराठा बना कर खाया जा सकता है।

पालक (Palak) को कैसे रखें-

1- इसे हमेशा फैला कर रखना चाहिए। कभी भी बाध कर न रखें।

2- यदि आपके पास फ्रिज है तो इसे फ्रिज में रख सकते हैं।

3- ताज़गी बनाए रखने के लिए इसको आप सुती कपड़े को गीला करके उसमे लपेट कर रख सकते हैं।

4- बहुत अधिक गरम जगह पर न रखें।

Note- यदि आपको यह लेख पसंद आया है तो comment करके अपनी राय जरूर दें।

 

 

 

 


Share Karo Na !
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

1 thought on “Palak (पालक) के फायदे और इसके नुकसान”

Leave a Comment