Vitamin D क्या है? इसके फायदे और नुकसान

Share Karo Na !
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Vitamin D एक प्रकार का Pro-Hormone का समूह होता है। यह एक Fat soluble विटामिन होता है। यह दो प्रकार का होता है-

1- Vitamin D2 (Ergocalciferol)

2- Vitamin D3 (Cholecalciferol)

Vitamin D

यह मुख्य रूप से सूर्य के प्रकाश, मछली, रेड मीट, Egg yolks, लीवर, दूध आदि में मिलता है। इन सभी में विटामिन डी Inactive रूप में होता है। जब शरीर में Hydroxylation reaction होता है तो उस स्थिति में ये सभी Active हो जाते हैं।

जब हम धूप में जाते हैं तो हमारा शरीर विटामिन डी बनाने लगता है। इसके बनने से कैल्शियम की Absorption अच्छी होती है और हमारे शरीर की हड्डियां मजबूत होती है। इसके कमी से हड्डियां कमजोर हो जाती है। जिसके कारण आसानी से टूट भी जाती हैं। हड्डियों में कैल्शियम की कमी होने पर उसे Osteoporosis कहते हैं।

इसकी कमी होने से हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती है। जिसके कारण कोई भी बीमारी आसानी से हो जाती है। यह हमे कई बीमारियों से बचाता है, जैसे- कैंसर, टीबी आदि।

विटामिन डी के कमी का कारण (Reason of Vitamin D Deficiency)-

आइए जानते हैं विटामिन डी की कमी के कौन कौन से कारण हैं-

1- धूप न लेना-

धूप विटामिन डी का एक प्रमुख स्रोत है। यदि आप किसी कारण वश इसके संपर्क में नहीं आते हैं तो आपको विटामिन D की कमी हो जाएगी।

ऐसा जगह जहां पर धूप बहुत कम मिलती है या बहुत सारे लोग पूरे बदन को ढक कर रखते हैं, ऐसी स्थिति में इसकी कमी हो जाती है।

2- भगौलिक स्थिति-

कुछ देश ऐसे जगह पर स्थित है जहां पर धूप बहुत कम निकलती है। ऐसे देशों के लोगों में विटामिन D की कमी हो जाती है। जैसे- ग्रीन लैंड, कुछ यूरोपीय देश, Russia के कुछ भागों में।

3- त्वचा का रंग-

यदि आपके त्वचा का रंग काला है तो उस स्थिति में धूप का अवशोषण बहुत कम होता है। क्यों कि मेलानिन की मात्रा अधिक होने पर विटामिन D के अवशोषण होने में दिक्कत होती है।

4- किडनी में दिक्कत होने पर-

हड्डियों की मजबूती के लिए कैल्शियम और विटामिन डी की जरूरत होती है। किडनी से Calcitriol नाम का हार्मोन निकलता है जो ब्लड से कैल्शियम को अवशोषण करने में मदद करता है। यदि किडनी में किसी भी तरह की दिक्कत होती है तो उस स्थिति में Vitamin D का अवशोषण नहीं हो पाता है, जिसके कारण इसकी कमी हो जाती है।

5- Fat की मात्रा अधिक होने पर-

यदि आपके शरीर में fat की मात्रा अधिक है तो उस स्थिति में आपके ब्लड से विटामिन डी को Fat सोख लेती है। जिसके कारण हमारे शरीर में इसकी कमी हो जाती है। अतः जिसके शरीर की BMI (Body Mass Index) जितनी अधिक होगी उतने ही मात्रा में इसकी कमी होगी।

Vitamin D की कमी का लक्षण-

इसकी कमी होने के लक्षण बहुत आम है। इसीलिए इसे पता लगाना बहुत मुश्किल होता है। इसके कुछ लक्षण निम्न हैं-

1- हड्डियों में दर्द होना-

यदि आपके शरीर में विटामिन D की कमी होती है तो उस स्थिति में सबसे पहले आपके हड्डियों में दर्द होने लगता है। इसकी कमी के कारण हड्डियों में कैल्शियम की कमी हो जाती है। कैल्शियम हड्डियों की मजबूती देने का प्रमुख स्रोत है।

2- बार बार बीमार होना-

इसकी कमी होने के कारण आपके शरीर की प्रतिरोधक क्षमता में कमी हो जाती है। जिसके कारण आपको कोई भी बीमारी बहुत जल्दी हो जाती है।

3- थकान महसूस होना-

इसकी कमी के कारण आपको बहुत जल्दी थकान हो जाती है। हमेशा आपको सुस्ती होगी। शरीर में ऊर्जा की कमी हो जाती है।

4- सूखा रोग होना (रिक्केट्स)-

कुछ सालों पहले यह बीमारी बहुत आम होती थी। लेकिन वर्तमान समय में यह बहुत कम होता है। मुख्य रूप से यह बीमारी बच्चों में विटामिन डी की कमी के कारण होती है।

5- हड्डियों का कमजोर होना-

यदि आपके शरीर में विटामिन डी की कमी होती है तो उस स्थिति में आपके हड्डियां कमजोर हो जाते हैं। इस स्थिति में हड्डियों की टूटने की संभावना बहुत ज्यादा होती है।

6- हड्डियों में मिनरल्स की कमी होना-

विटामिन D की कमी के कारण हड्डियों में मिनरल्स की कमी हो जाती है। जिससे हड्डियां कमजोर हो जाती है, और Osteoporosis, Osteoarthritis हो जाती है।

केला खाने के फायदे और नुकसान

विटामिन डी के स्रोत (Source of Vitamin D)-

• धूप

•  मछली

• रेड मीट

• लीवर

• Egg yolks

• दूध

• मशरूम

• संतरे का जूस

• Cereal (अनाज)

• Oatmeal (दलिया)

• Vitamin D suppliment

• Vitamin D medicine

विटामिन डी के फ़ायदे (Benefits of Vitamin D)-

यदि आप नियमित रूप से इसका सेवन करते हैं तो आपको इसका बहुत लाभ मिलता है। कुछ फ़ायदे निम्न हैं-

1- हड्डियों में मजबूती आना (Strong bones)-

विटामिन D के सेवन से हमारे शरीर की हड्डियां मजबूत रहती हैं। क्यों कि यह हमारे शरीर में कैल्शियम के Absorption को बढ़ा देती है। जिससे हड्डियां मजबूत हो जाती है। और आपको Osteoporosis, Osteoarthritis नहीं होता है।

2- दांत को स्वस्थ रखना (Healthy teeth)-

चूंकि हम सभी जानते हैं कि हमारे दांत कैल्शियम के बने होते हैं। विटामिन D से कैल्शियम की कमी पूरी हो जाती है। जिससे हमारा दांत स्वस्थ रहता है।

3- प्रतिरोधक (Immunity) क्षमता अच्छा होना-

यह हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को सही रखता है। जिसके कारण यह हमें कई बीमारियों से बचाता है।

4- मांसपेशियों को मजबूत बनाना-

शरीर में विटमिन D की मात्रा सही होने पर कैल्शियम और फास्फेट को Regulate करने में मदद मिलती है। जिससे हमारे मांसपेशियों को मजबूती आती है।

5- सूखे रोग से बचाना (रिकेट्स)-

बच्चों में अक्सर विटामिन डी की कमी के कारण सूखा रोग हो जाता है। जो कि यह एक गंभीर बीमारी है। यदि बच्चों को सही मात्रा में Vitamin D को दिया जाय तो यह रोग कभी नहीं होगा।

6- हमेशा एक्टिव रहना (Be Active)-

इसकी पर्याप्त मात्रा से हमारे शरीर में हमेशा ऊर्जा बनी रहती है। जिससे हमें जल्दी थकान महसूस नहीं होता है। और हम हमेशा एक्टिव रहते हैं।

विटामिन डी का उपयोग (Use of Vitamin D)-

विटामिन डी का मुख्य स्रोत धूप होता है। इसका उपयोग विभिन्न स्थितियों में होता है,

• Osteoporosis

• Osteoarthritis

• हड्डियों में मिनरल्स की कमी होने पर

• मांसपेशियों के कमजोरी में

• कमर दर्द होने पर

• हड्डियों के टूटने पर

• पीठ में दर्द होने पर

• Osteomalacia

• Vitamin D की कमी होने पर

 

Brands of Vitamin D (विटामिन डी के ब्रांड)- 

• Daily shine 60K Tablet (Systopic Lab)

• Uprise D3 Soft gelatin capsule (Alkem laboratories)

• DV 60K Soft gelatin capsule (Indechemi)

• Calcigen D3 Capsule (Caddila)

• Calcijoint D3 Tablet (LeeFord Healthcare)

• Veg D3 Capsule (Awakesoul pharmaceutical Pvt ltd)

• Caldikind sachet ( Mankind pharma)

• Lupi D3 60000IU sachet (Lupin Pharma)

• Vitomin D3 Sachet (Cipla)

• D 3 Extra 60K Capsule (MacLeod’s)

• Calcitas Sachet (Intas)

• Calshine 60K Sachet (Eris Life science)

• Arachitol 60000 IU injection (Abbott)

• D rise 60K Sachet (USV pharma)

• Micro D3 60K Tablet (Micro lab)

• Calcirol CT Tablet (Caddila)

विटामिन डी के दुष्प्रभाव (Side effects of Vitamin D)-

विटामिन D के संतुलित सेवन से इसका बहुत फायदा मिलता है। लेकिन यदि आप इसको अधिक सेवन करते हैं तो आपको इसके Side effects भी हो सकता है। कुछ Side effects निम्न हैं-

1- यदि आपके शरीर में विटामिन डी की अधिकता होती है तो उस स्थिति में आपको पथरी होने की संभावना बढ़ जाती है।

2- इसकी अधिकता के कारण Blood pressure बढ़ जाता है।

3- कोलेस्ट्रॉल की मात्रा अधिक हो जाती है जिसके कारण इसका हृदय पर बुरा प्रभाव पड़ता है।

4- चक्कर आना

5- कमजोरी होना

6- सिर दर्द होना

7- पेट का खराब होना

8- दस्त होना

Note- यह एक Informational blog है। यदि आपका कोई सुझाव है तो कृपया कॉमेंट करके जरूर बताएं।

 


Share Karo Na !
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Comment