Diabetes Mellitus Symptoms | Prevention | Treatment in Hindi

Share Karo Na !
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


हेलो इंडिया !! डायबिटीज मेलिटस ( Diabetes Mellitus) बहुत ही Common और Complex बीमारी है। अग्नाशय  से इन्सुलिन का स्राव कम हो  जाने  के कारण यह बीमारी होती है।   दुनिया में लगभग 371
मिलियन लोग इस  बीमारी से ग्रस्त हैं।  आने वाले समय में डायबिटीज से पीड़ित लोगो की संख्या 550 मिलियन होने की संभावना  है।  

 ” जब व्यक्ति के रक्त में ग्लूकोज  की  मात्रा  बढ़ जाती है तो उस व्यक्ति को डायबिटीज यानि मधुमेह की बीमारी हो जाती है।  इसके साथ – साथ रक्त में कोलेस्ट्रॉल एवं वसा  की मात्रा असंतुलित हो  जाती है।  डायबिटीज वाले व्यक्ति के किडनी , आँखे , दिमाग एवं ह्रदय के नष्ट होने की संभावना हो जाती है।  “

Source :-हेल्थफिटनेस्स

 

सामान्य तौर पर डायबिटीज दो प्रकार का होता है :- 

 

  1. Type -1 Diabetes Mellitus ( Insulin Based Diabetes)
  2. Type-2 Diabetes Mellitus ( Insulin Resistance)

डायबिटीज होने पर  व्यक्ति के  शरीर में  भोजन को एनर्जी  में परिवर्तित करने की क्षमता  कम  होने लगती है।

इसके बाद भी  भोजन  ग्लूकोज में  बदल कर  व्यक्ति के  रक्त में  जाता  है  लेकिन  अधिकतर  ग्लूकोज  कोशिका में  नहीं  पहुंच पाते  है  और  यही  ग्लूकोज  रक्त में रुका  रहता है  जिससे   हाइपर  ग्लीसिमिया  हो  जाती  है। 
 

Symptoms of Diabetes Mellitus  ( डायबिटीज के लक्षण ):- 

 

  1. PolyUrea:- जब व्यक्ति को अधिक से अधिक मूत्र आने लगे तो डायबिटीज होने की आशंका रहती है। 
  2. ज्यादा प्यास लगना या महसूस करना। 
  3. ज्यादा खाना खाने के बाद भी भूख लगे रहना। 
  4. खाने के बाद  भी वजन न बढ़ना। 
  5. त्वचा में खुजली होना। 
  6. पैर एवं हाथो में दर्द एवं अकड़न । 
  7. आँखों से धुंधला दिखाई देना। 
  8. बहुत ज्यादा थकावट महसूस करना।

ऊपर दिए गए सभी लक्षण डायबिटीज होने का संकेत करते है , अगर किसी भी व्यक्ति को इस तरह के लक्षण महसूस होते है तो उसको डॉक्टर से कंसल्ट करना चाहिए।

डायबिटीज से होने वाली हानियाँ  ( Effects of Diabetes Mellitus):-

  1. Ratinopathy:-  आँख की रेटिना ख़राब हो  जाती है , इसको Ratinopathy कहा जाता है। इससे व्यक्ति की आँखों की रौशनी भी चली जाती है। 
  2. Neuropathy :- Neuropathy  ऐसी बीमारी है ,जिसमे व्यक्ति की (NERVES )  तंत्रिका  काम करना बंद कर देती है , और कमजोरी होने लगती है। 
  3. डायबिटीज के कारण किडनी भी खराब  हो जाती है।  
  4. Coronary Artery Disease:- ह्रदय की धमनियाँ ब्लॉक  हो जाती है , जिससे  ह्रदय में रक्त उचित मात्रा में नही पहुंच पाती है। 
  5. Peripheral Vascular Disease :-  पूरे  शरीर की  रक्त वाहिकाएं (Blood vessels ) ब्लॉक हो जाती है, जिससे Blood अच्छी मात्रा में शरीर के अन्य हिस्सों में नहीं पहुंच पाता है।

डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए निम्न उपाय है ( Control On Diabetes Mellitus ):- (Treatment )

डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए कुछ दवाओ का उपयोग किया सकता है।
  1. Piosys ( Systopic Company)
  2. Pioglit ( Sun Pharma)
  3. Pioglar (Ranbaxy)
  4. Pioz ( USV)

Desclaimer :- इन दवाओ के सेवन करने से पहले आप किसी फिजिशियन से जरूर कंसल्ट करे.

 

Preventions ( डायबिटीज से बचाव ):-

डायबिटीज से बचने के कुछ निम्न निर्देश अंकित है :-
  1. डायबिटीज के मरीज़ को कोलेस्ट्रॉल युक्त भोजन नहीं करना चाहिए। 
  2. नियमित व्यायाम करना चाहिए, जैसे सुबह सुबह टहलना। 
  3. प्रत्येक 6 महीने में डॉक्टर से मिलना चाहिए।
  4. नियमित रूप से शुगर level जांच करवानी चाहिए।
 

दोस्तों , अगर यह लेख आपको पसंद आया तो कृपया अपने दोस्तों एवं परिजनों के साथ शेयर करे।  Our Healthy India का उद्देश्य सबको बीमारियो से अवगत करने का है।  इसमें आपका सहयोग अत्यंत आवश्यक है।


Share Karo Na !
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

3 thoughts on “Diabetes Mellitus Symptoms | Prevention | Treatment in Hindi”

Leave a Comment